Sita – Mithila Ki Yoddha

325.00399.00 (-19%)

5 in stock

About the Author

आई. आई. एम. (कोलकाता) से प्रशिक्षित, 1974 में जन्मे अमीश ने एक बोरिंग बैंकर से एक सफल लेखक का लम्बा सफ़र तय किया है। अपने पहले उपन्यास मेलूहा के मृत्युंजय (शिव रचना त्रयी का प्रथम भाग) की अपार सफलता से प्रोत्साहित होकर आप फ़ाइनेंशियल सर्विस का चौदह साल का कैरियर छोड़ कर लेखन क्षेत्र में आ गये। इतिहास, पौराणिक कथाओं एवं दर्शन के प्रति आपके रुझान ने आपको विश्व के सभी धर्मों और उनके अर्थ को समझने के लिए प्रेरित किया। अमीश की पुस्तकों की पचपन लाख से अधिक प्रतियाँ बिक चुकी हैं और उनका उन्नीस से अधिक भाषाओं में अनुवाद हो चुका है।

 

 

  • Language: Hindi
  • Binding: Paperback
  • Publisher: Westland Publications Limited
  • Genre: Fiction
  • Pages: 424
Compare
SKU: 9789386224859 Category:

राम चंद्र श्रृंखला की दूसरी किताब सीता: मिथिला की योद्धा। एक रोमांच जो एक दत्तक बच्ची के प्रधानमंत्री बनने की कहानी दर्ज करता है। और फिर देवी बनने की।3400 ईसा पूर्व भारत मतभेदों, असंतोष और निर्धनता से घिरा था और उस दौर में जनता अपने शासकों से नफरत करती थी। बाहरी लोगों ने इस मतभेद का फायदा उठाया। लंका के राक्षस राजा, रावण ने शक्तिशाली होते हुए अपने जहरीले दांत बेबस सप्तसिंधु में और गहरे गड़ा दिए थे। उधर मैदान में एक अनाथ बच्ची मिलती है। गिद्ध द्वारा संरक्षित और खूनी भेड़ियों में घिरी हुई। उसे शक्तिहीन और उपेक्षित साम्राज्य, मिथिला के शासक गोद लेते हैं। किसी को नहीं लगा था कि वो बच्ची कुछ कर पाएगी। लेकिन वो गलत साबित हुए। वो कोई साधारण लड़की नहीं थी। वो थी सीता।मौलिक और रोमांचक… अमीश की ये किताब चेतना को गहराई तक झकझोर देती हैं। —दीपक चोपड़ा

Additional information

Weight 0.3 kg
Dimensions 20 × 12 × 3 cm
brand

Natham publication

Binding

Paperback

language

Hindi

Genre

Fiction

ApnaBazar