Stuti: Mahabharat Aadhaarit Pauranik Rahasya Gaatha Khand 2 by Saurabh Kudesia

Stuti: Mahabharat Aadhaarit Pauranik Rahasya Gaatha Khand 2 by Saurabh Kudesia

Shanti Nath Traders

  • Rs. 187.00
    Unit price per 
  • Save Rs. 63


Dear Customer *The Reason you should buy this amazing book*

महाभारत आधारित पौराणिक रहस्य गाथा का यह दूसरा चरण है। रोहन की वसीयत और उससे जुड़ी रोंगटे खड़े करने वाली वस्तुओं की गुत्थी में उलझे श्रीमंत परिवार को उस रहस्यमय यज्ञ के दर्शन हुए जिसे अदृश्य मुमुक्षुओं ने कुरुक्षेत्र में महाविनाश के उत्सव से दूर अपने त्याग, समर्पण और निष्ठा से श्रीकृष्ण के आदेश पर मानवता के चरणों में समर्पित किया था। किन्तु द्वापरयुग के गर्भ में पोषित वह दिव्य यज्ञ कलयुग में श्रीमंत परिवार के जीवन और मानवता के भविष्य का निर्णायक कैसे बना? उससे रोहन की वसीयत का क्या जुड़ाव था?.

About the Author

सौरभ कुदेशिया पिछले बीस वर्षों से पेशेवर लेखक और मैनेजर के तौर पर विभिन्न मल्टीनेशनल कंपनियों से जुड़े रहे हैं। अपने पेशेवर कैरियर में इन्होंने भारत, चीन, अमेरिका, और यूरोप में अनेक टीम और अनगिनत प्रोजेक्ट्स का संचालन किया है। नेशनल और इंटरनेशनल स्तर पर अनगिनत विषयों पर कई शोध-पत्र प्रस्तुत करने के साथ इन्होंने अनगिनत राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय संस्थानों के लिए स्वयंसेवक के तौर पर अपनी सेवाएँ प्रदान की हैं।

बिरला इंस्टीवट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी एंड साइंस पिलानी, आईआईएम बेंगुलुरु, सिम्बायोसिस पुणे से पोस्ट ग्रैजुएट सौरभ वर्तमान में बेंगुलुरु की एक कंपनी में डायरेक्टर का पदभार संभाले हुए हैं।

Product details


Publisher : Hind Yugm
Language : Hindi
Paperback : 455 pages
ISBN-10 : 8194653827
ISBN-13 : 9788194653820
Item Weight : 320 g
Dimensions :  20 x 14 x 4 cm
Country of Origin : India

We at Apna Bazar are working day and night for customer satisfaction and trying our best to give you best services. We provide you the best quality products available in the market. Our motto is Customers above anything by this we mean to serve you best services and quality things. Your passion is our satisfaction. Please provide your valuble comments about our service and our product.
Thank You
Yours Faithfully
Apna Bazar

We Also Recommend